News

Embracing art through the eyes of Kabir

Taking off from a memorable inaugural edition last year, the Mahindra Kabira Festival returns to Varanasi for three days from November 10 – 12, with another sublime celebration of the mystical poet saint Kabir.

वाराणसी में महिंद्रा कबीरा उत्सव 4 नवंबर से

यह गूंज चार नवंबर से शुरू हो रहे महिन्द्रा कबीरा उत्सव में सुनाई देगी। यहां जारी बयान के अनुसार, महिन्द्रा समूह और टीमवर्क आर्ट्स ने मिलकर इस वार्षिक महोत्सव की योजना बनाई है, जो कबीर की अनेकता में एकता का संदेश देने वाली निर्गुण ब्रह्म की उपासना का संदेश देगी।

Kabir by the Ganges

It’s an idea whose time should have come decades ago, but until yesterday India had no museum dedicated to the biggest, and perhaps the bloodiest, migration in human history — the 1947 Partition.

The enthralling Mahindra Kabira Festival

Varanasi: With their aim of making Kabir's verses accessible to all, the five-member contemporary band -- Kabir Cafe presenting their interpretation through music filled with pop, reggae, rock, folk fusion and Carnatic flavours in Varanasi.

कबीर को रॉक में सुनने का विचार कभी आया है क्‍या…!

अनेक शास्त्रीय गाने कबीर की कालनिरपेक्ष कविता से प्रेरित हैं और अब मुंबई का कबीर कैफे रॉक संगीत के जरिये उनके छंदों की व्याख्या करके सूफीवादी कविता को आधुनिक रंग दे रहा है.